अपने ग्राहक सेवा केन्द्र को कैसे बनाऐं बैंकिंग सेवाओं का हब

अगर आप बैंक का ग्राहक सेवा केन्द्र चलाते हैं तो थोड़ा सा स्मार्ट वर्क करके अपने ग्राहक सेवा केन्द्र को बैंकिंग सेवाओं का हब बना सकते हैं। ये बहुत आसान है और फायदेमंद भी।

ज्यादातर ग्राहक सेवा केन्द्र संचालक सिर्फ बैंक के खाते खोलने व लेन—देन तक ही सीमित रहते हैं जिससे उनकी इनकम भी सीमित रहती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आप अपने ग्राहक सेवा केन्द्र को बैंकिंग सेवाओं का हब बना सकते हैं। आइये जानते हैं कैसे। लेकिन उससे पहले जान लेते हैं कि आप अपने ग्राहकों को कौन—कौन सी सेवाऐं दे रहे हैं और कौन—कौन सी सेवाऐं अतिरिक्त दे सकते हैं।

आप ग्राहक को कौन सी सेवाऐं दे रहे हैं—

ज्यादातर ग्राहक सेवा केन्द्र संचालक अपने ग्राहकों को खाता खोलना, पैसे की जमा—निकासी, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, अटल पेंशन योजना आदि सेवाऐं ही देते हैं। जो कि बहुत सीमित सेवाऐं हैं।

आप अपने ग्राहक सेवा केन्द्र पर कौन सी अतिरिक्त सेवाऐं दे सकते हैं—

आप अपने सेंटर पर अधिक सेवाऐं दे सकते हैं जैसे इंश्योरेंस, म्युचुअल फण्ड, इन्वेस्टमेंट प्लान, सिबिल स्कोर चेक करना, लोन दिलाना आदि। आइये जानते हैं कि इन सेवाओं को कैसे दे सकते हैं और आपका क्या प्राफिट होगा।

इंश्योरेंस प्लान

आप अपने ग्राहकों को इंश्योरेंस प्लान बेच सकते हैं। इंश्योरेंस प्लान सभी प्रकार के हो सकते हैं। इसके लिये आपको किसी अच्छी इंश्योरेंस कम्पनी से जुड़ना होगा जिसकी सर्विस बेहतर और भरोसेमंद हो। आप एलआईसी से भी जुड सकते हो। ये बीमा क्षेत्र की सबसे विश्वसनीय कम्पनी हैं। आप अपने ग्राहकों को इंश्योरेंस प्लान के बारे में बता सकते हो। अगर कोई व्यक्ति इंश्योरेंस करवाता है तो बदले में आपको 25 प्रतिशत तक कमीशन मिलता है।

लेकिन इंश्योरेंस प्लान ऐसा होना चाहिये जो कि ग्राहक के बजट मे भी आये और भविष्य में उसे कोई समस्या न हो। सिर्फ अपने छोटे फायदे के लिये ग्राहक का नुकसान न होने दें।

म्युचुअल फण्ड

आप म्युचुअल फण्ड एडवाइजर बनकर ग्राहक को म्युचुअल फण्ड में निवेश करा सकते हो। म्युचुअल फण्ड पैसे को निवेश करने का एक अच्छा विकल्प है। इसमें आपको कमीशन भी बहुत अच्छा मिलता है।

सिबिल स्कोर चेक करना

बहुत से ग्राहकों को अपना सिबिल स्कोर चेक कराना होता है। इसके लिये उन्हे बैंक के चक्कर काटने पड़ते हैं। लेकिन सिबिल स्कोर तो आनलाइन भी चेक हो जाता है। ऐसे में आप उनका सिबिल स्कोर चेक करके उन्हे प्रिंट दे सकते हो। बदले में आप अपनी छोटी सी फीस उनसे ले सकते हो।

ग्राहक को लोन दिलाना

आप अपने ग्राहकों को लोन दिलवा सकते हो। इसके लिये आपको बैंक से इन्सेंटिव भी मिलता है। अगर आप किसी ग्राहक के सभी दस्तावेज पूरे कर के उसका प्रपोजल बनाकर बैंक को भेजते हो तो बहुत ज्यादा चांसेज हैं कि बैंक उन ग्राहकों को लोन दे। बैंक अगर उनको लोन नही देता है तो आप किसी अन्य बैंक या थर्ड पार्टी लोन प्रोवाइटर कम्पनी से उन्हे लोन दिलवा सकते हो। इसमें आपके दो फायदे हैं एक तो आपको लोन देने वाली कम्पनी से अच्छा इंसेंटिव या कमीशन मिलता है और दूसरा जब ग्राहक को लोन मिल जाऐगा तो वो पैसे की निकासी भी आपके यहां से करेगा और पैसे जमा भी आपके ही यहां करेगा। इससे आपका ट्रांजेक्शन भी बढ़ेगा और आपकी इनकम भी।

किसी भी बैंक से पैसे निकालना व जमा करना

आज आधार पेमेंट सिस्टम के माध्यम से आप किसी भी बैंक से पैसे की निकासी व जमा कर सकते हो। वहीं डोमेस्टिक मनी ट्रांसफर सर्विस के जरिये कहीं भी थर्ड पार्टी को पेमेंट भेज सकते हो। इससे आपकी इनकम बढ़ेगी।

इन सभी सेवाओं को अपने ग्राहक सेवा केन्द्र पर शुरू करके आप अपने ग्राहक सेवा केन्द्र को बैंकिंग सेवाओं का हब बना सकते हो। इससे आपके पास काम बढेगा और आप की इनकम भी बढ़ेगी। वहीं ग्राहक को बेहतर सर्विस भी मिलेगी।

उम्मीद है आपको हमारा ये लेख पसंद आया होगा। अगर आपको हमारा लेख पसंद आया तो कमेंट बॉक्स में हमें सूचित करें। वहीं ग्राहक सेवा केन्द्र से जुड़ा कोई भी सवाल आपके मन में हैं तो वो भी कमेंट बॉक्स में पूंछे।

Leave a Comment